Advertisment

महानायक मौलाना आज़ाद को खिराजे अक़ीदत

  • Fri, 22 Feb 2019
  • National
  • Saleem Khilji

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद को खिराजे-अक़ीदत

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद का जन्म 11 नवम्बर 1888 को मक्का (सऊदी अरब) में हुआ था. 22 फ़रवरी 1958 को दिल्ली में उनका इंतक़ाल हुआ और जामा मस्जिद के सहन में उनको दफनाया गया. आज उनकी 61वीं बरसी है. मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की देश-सेवा को सलाम. वे महान स्वतंत्रता सेनानी थे.

1942 से 1946 तक वे कांग्रेस के अध्यक्ष रहे. 1942 में "अंग्रेज़ों भारत छोड़ो आन्दोलन" के दौरान मौलाना अबुल कलाम आज़ाद कांग्रेस के अध्यक्ष थे. 1947 में देश की आज़ादी के बाद वे देश के पहले शिक्षामंत्री बने.

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद : जिन्होंने हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर साम्प्रदायिक राजनीति करने वाली प्रेस को 1923 में भी लताड़ा था. आज भी हालात वैसे ही हैं. मीडिया का इस्तेमाल साम्प्रदायिक तनाव फ़ैलाने के लिए किया जा रहा है. सावधान हो जाओ देशवासियों ! देश के महान दूरदर्शी नेता मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की आज 22 फ़रवरी 2019 को 61वीं बरसी है.

देश को नुक्सान पहुँचाने वालों के साथ असहयोग करो : मौलाना अबुल कलाम आज़ाद. मौलाना आज़ाद देशप्रेमी मुसलमान थे. उन्होंने मुसलमानों को इस्लाम का वास्ता देकर इस बात के लिए उभारा कि जो लोग देश को नुक्सान पहुंचाए, उनका साथ मत दो. आपकी सोच को सलाम! आपके जज़्बात को सलाम!! देश के महान शुभचिंतक नेता मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की आज 22 फ़रवरी 2019 को 61वीं बरसी है.

More in this..